[Pdf] National Parks And Wildlife Sanctuaries Of Bihar in Hindi - GyAAnigk

Latest

Search

रविवार, 25 अप्रैल 2021

[Pdf] National Parks And Wildlife Sanctuaries Of Bihar in Hindi

बिहार के सभी राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों की सूची Pdf Download - GyAAnigk



तो कैसे हो आप सब लोग उम्मीद करता हूं ठीक ही होंगे,
किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में लगभग 25 से 30% सामान्य ज्ञान (General Knowledge) और करंट अफेयर्स (Current Affairsके प्रश्न होते हैं।

इसलिए, यदि आप एक ऐसे व्यक्ति हैं, जो देश भर के शीर्ष कॉलेजों में Admission लेना चाहते हैं या सरकारी नौकरी की किसी भी परीक्षा में सफल होना चाहते हैं, तो आपके लिए करंट अफेयर्स (Current Affairs) और सामान्य ज्ञान (General Knowledge) विषयों की जानकारी रहना बहुत जरूरी है।

बिहार के सभी राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों की सूची Pdf Download - GyAAnigk



वर्तमान समय में बिहार में 1 वन्य राष्ट्रीय उद्यान (National Parks) एवं 11 जीव अभयारण्य (Wildlife sanctuary) मौजूद है। बिहार का एकमात्र राष्ट्रीय उद्यान वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान है।

अगर आप बिहार में किसी प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो आपको यह विषय (राष्ट्रीय उद्यान एवं जीव अभयारण्य) एक या दो अंक प्राप्त करने में मदद करेगा।

आज के इस पोस्ट बिहार के सभी राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों की सूची Pdf Download - GyAAnigk में हमनें बिहार के राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है।


आज के सवाल कुछ इस प्रकार होंगे 👇🏻👇🏻

  • गौतम बुद्ध पक्षी अभ्यारण्य बिहार
  • नागी बांध पक्षी अभयारण्य बिहार
  • भीम बांध अभ्यारण्य बिहार

इत्यादि इसी तरह के सवालों का जवाब मिलेगा तो इस पोस्ट को अंतिम तक जरूर पढ़े। और हां आप हमारे Site से Pdf File फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं।


तो चलिए शुरू करते हैं!!



बिहार के राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों की सूची Pdf - GyAAnigk


गौतम बुद्ध पक्षी अभ्यारण्य बिहार (Gautam Buddha Bird Sanctuary Bihar)

  • स्थान - पश्चिम चंपारण
  • स्थापना वर्ष - 1971
  • क्षेत्रफल - 259 वर्ग किमी।

अन्य जानकारी :- वन्यजीव अभ्यारण्य बनने से पहले यह एक निजी शिकार रिजर्व था। गौतम बुद्ध पक्षी अभ्यारण्य बिहार राज्य के गया जिले और झारखंड के कोडरमा जिले में स्थित है।

प्रसिद्ध है - फॉना में बाघ, तेंदुए, भेड़िये, सुस्त भालू, चोल, चिंकारा और पक्षियों की कई प्रजातियां आदि के लिए।




वाल्मीकि वन प्राणी अभ्यारण्य या वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान, टाइगर रिजर्व और वन्यजीव अभयारण्य बिहार (Valmiki National Park)

  • स्थान - पश्चिम चंपारण
  • स्थापना वर्ष - 1976
  • क्षेत्रफल - 899.38 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- यह अभ्यारण भारत-नेपाल सीमा पर  गंडक नदी के किनारे स्थित है। वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान वन क्षेत्र 899.38 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है, जो पश्चिमी चंपारण के कुल भौगोलिक क्षेत्र का 17.4% भाग है।

प्रसिद्ध है - यह अभ्यारण भारतीय गैंडे , एशियाई काले भालू , भारतीय सुस्त भालू , ऊद , भारतीय तेंदुआ , जंगली कुत्ता , जंगली पानी भैंस और जंगली सूअर और हिरणों की कई प्रजातियां हैं, जिनमें भौंकने वाले हिरण आदि शामिल हैं।



भीम बांध अभ्यारण्य बिहार (Bhimbandh Sanctuary Bihar)

  • स्थान - मुंगेर
  • स्थापना वर्ष - 1976
  • क्षेत्रफल - 681.99 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- महाभारत के अनुसार भीम ने गंगा नदी के दक्षिण दिशा में एक बांध का निर्माण कराया इस कारणवश इसे भीम बांध कहा जाता है। घाटी के तलहटी भागों में कई गर्म झरने हैं जिनमें से भीमबांध, सीता कुंड और ऋषि कुंड को सबसे अच्छा माना जाता है।

प्रसिद्ध है - हिरण, चित्ताल, सांबर, खरगोश, जंगली भालू, घूमने वाले हिरण, वैन मुर्गी, हनुमान, साहल, नीलगाई, मुहैया, हिना, जंगल बिल्ली, मछली पकड़ने वाली बिल्ली आदि के लिए प्रसिद्ध है।


पंत वन्य प्राणी अभ्यारण्य बिहार (Pant Wildlife Sanctuary Bihar)

  • स्थान - नालंदा
  • स्थापना वर्ष - 1978
  • क्षेत्रफल - 36.84 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- पंत वन्यजीव अभयारण्य का परिदृश्य पांच पर्वतों से घिरा हुुआ है यह पांच पर्वत निम्नलिखित हैं - रत्नागिरी, विपुलगिरि, वैभारगिरि, सोंगिरी और उदयगिरि। राजगीर चिड़ियाघर सफारी बिहार के राजगीर में एक निर्माणाधीन सफारी पार्क है। इस सफारी की आधारशिला 17 जनवरी 2017 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी नेे रखी थी।

प्रसिद्ध है - 




उदयपुर वन्य प्राणी अभ्यारण्य बिहार (Udaipur Wildlife Sanctuary Bihar)

  • स्थान - पश्चिम चंपारण
  • स्थापना वर्ष - 1978
  • क्षेत्रफल - 8.74 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- उदयपुर वन्यजीव अभयारण्य एक छोटा अभयारण्य है जो सराय मान झील नामक एक छोटी झील के किनारे स्थित है। इस झील में सर्दियों के दौरान विभिन्न प्रकार की मछलियाँ और प्रवासी पक्षी भी आते हैं। जो इस अभ्यारण को और भी सुंदर बनाती है

प्रसिद्ध है - चित्तीदार हिरण, बार्किंग डीयर, जंगली सुअर, नील गाय, भेड़िए, जंगली बिल्लियां आदि के लिए प्रसिद्ध है।



कैमूर वन्य जीव अभ्यारण्य बिहार (Kaimur Wildlife Sanctuary Bihar)

  • स्थान - रोहतास
  • स्थापना वर्ष - 1979
  • क्षेत्रफल - 1342 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- 70 प्रजातियों के निवासी पक्षियों के लिए एक निवास स्थान है। सर्दियों में प्रवासी पक्षियों के आगमन के दौरान आप अधिक प्रजातियों के पक्षियों को देख पाएंगे।

प्रसिद्ध है - कालीधा और अनुपम झील में मछलियां पाई जाती हैं। और बाघ, तेंदुआ, जंगली सुअरों, भालू, सांभर हिरण, चीतल, चौसिंगा और नीलगाय आदि के लिए प्रसिद्ध है।



नागी बांध पक्षी अभयारण्य बिहार (Nagi Dam Bird Sanctuary Bihar)

  • स्थान - जमुई
  • स्थापना वर्ष - 1984
  • क्षेत्रफल - 2.1 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- नागी बांध पक्षी अभयारण्य को 25 फरवरी 1984 को वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की धारा 18 के अनुसार पक्षी अभयारण्य घोषित कर दिया गया था। परियोजना की लागत 3 करोड़ थी। लगभग 9850 एकड़ भूमि को सिंचित करने के लिए नागी बांध का निर्माण किया गया था। यह अभयारण्य समुद्र तल से लगभग 200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। सिंचाई उद्देश्यों के लिए 1955 और 1956 में प्रथम पंचवर्षीय योजना के तहत “योजना आयोग” की सिफारिश के बाद बांध का निर्माण शुरू हुआ । यह 1958 में द्वितीय पंचवर्षीय योजना में पूरा हुआ था। 

प्रसिद्ध है - मछली, प्रवासी पक्षियों और निवासी पक्षियों के लिए प्रसिद्ध है। रिचर्ड पिपिट, नीले रॉक थ्रश, आम ठीक गोली चलाना, ब्लिथ पक्षियों की जातियाँ, आम पोचार्ड, ग्रेलाग गूज, गुच्छेदार बतख, हंसुए की तरह घूमा हुआ बतख, केंट प्लोवर, स्टेपी ईगल, यूरेशियन कबूतर, उत्तरी पिंटेल, जंग बतख आदि के लिए प्रसिद्ध है।


नकटी डैम पक्षी अभ्यारण्य बिहार (Nakti Dam Bird Sanctuary Bihar)

  • स्थान - जमुई
  • स्थापना वर्ष - 1987
  • क्षेत्रफल - 3.32 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- नेगी बांध और नकटी बांध दोनों अभयाारण्य एक दूसरे केेइतने करीब है कि वे एक पक्षी क्षेत्र के रूप में लिया जा सकता है।( अगर आपको इस पक्षी अभ्यारण के बारे में जानकारी है तो हम तक जरूर पहुंचाइए - धन्यवाद ❤️❤️) 

प्रसिद्ध है - इंडियन कोर्टर, इंडियन सैंडग्राउज़, येलो-वॉटल्ड लैपविंग और इंडियन रॉबिन के लिए प्रसिद्ध है।


कंवर झील पक्षी अभ्यारण्य बिहार (Kanwar Lake Bird Sanctuary Bihar)

  • स्थान - बेगूसराय
  • स्थापना वर्ष - 1989
  • क्षेत्रफल - 67.5 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- कंवर झील को पक्षी विहार का दर्जा सन् 1984 में बिहार सरकार ने दिया था। और क्या आपको पता है कंवर झील एशिया की सबसे बड़ी शुद्ध जल की झील है और साथ ही साथ यह एक पक्षी अभयारण्य भी है। इस झील को काबर झील, कावर झील, काबर ताल, कनवार ताल या कावर ताल इत्यादि नामों से भी जाना जाता है।

प्रसिद्ध है - प्रवासी पक्षी और विदेशी पक्षीयों के लिए प्रसिद्ध है।


विक्रमशिला गंगात्मक डॉल्फिन अभ्यारण्य बिहार (Vikramashila Gangetic Dolphin Sanctuary Bihar)

  • स्थान - भागलपुर
  • स्थापना वर्ष - 1990
  • क्षेत्रफल - 50 किमी

अन्य जानकारी :- यह एशिया में लुप्तप्राय गंगा डॉल्फिन के लिए संरक्षित क्षेत्र है। विक्रमशिला गंगात्मक डॉल्फिन अभयारण्य (VGDS) को वन्यजीव (संरक्षण), अधिनियम 1972 के प्रावधानों के तहत गंगा नदी में डॉल्फ़िन के संरक्षण और संरक्षण के लिए अधिसूचित किया गया है। 

प्रसिद्ध है - गंगा नदी की डॉल्फिन, गेवियलिस गैंगेटिकस, लुटरोगेल एस्किलिटाटााऔर  ताजे पानी के कछुओं के लिए प्रसिद्ध है।



कुशेश्वर अस्थान पक्षी अभ्यारण्य बिहार (Kusheshwar Asthan Bird Sanctuary Bihar)

  • स्थान - दरभंगा
  • स्थापना वर्ष - 1994
  • क्षेत्रफल - 28.40 वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत 7019.75 एकड़ में फैले इन गांवों को कुशेश्वर अस्थान पक्षी अभयारण्य घोषित किया गया है। कुशेश्वर शिव मंदिर पास में ही स्थित होने कि वजह से इस स्थान का नाम कुशेश्वर अस्थान पक्षी अभ्यारण्य पड़ा है।

प्रसिद्ध है - डेलमेटियन पेलिकन, भारतीय डार्टर, बार-हेडेड हंस, साइबेरियन क्रेन नकट, हरियल, मेल, सिल्ली, रतवा, गगन, गयारि आदि के लिए प्रसिद्ध है। 



सलीम अली-जुब्बा साहनी पक्षी अभयारण्य बिहार (Salim Ali-Jubba Sahni Bird Sanctuary Bihar)

  • स्थान - वैशाली
  • स्थापना वर्ष - 1997
  • क्षेत्रफल - ** वर्ग किमी

अन्य जानकारी :- ब्रिला झील का नाम बदलकर अब सलीम अली-जुब्बा साहनी पक्षी अभयारण्य' रख दिया गया है।

प्रसिद्ध है - 



Frequently Asked Questions [FAQ] About National Parks And Wildlife Sanctuaries Of Bihar in Hindi Pdf


प्रश्न 1:- बिहार के राष्ट्रीय उद्यान कौन कौन से हैं?
उत्तर :- बिहार राज्य में वर्तमान समय में केवल एक ही राष्ट्रीय उद्यान मौजूद है। बिहार का एकमात्र राष्ट्रीय उद्यान वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान है। वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना सन् 1976 में किया गया था और इस राष्ट्रीय उद्यान का क्षेत्रफल क्षेत्रफल - 899.38 वर्ग किमी है।

प्रश्न 2:- बिहार में राष्ट्रीय उद्यानों की संख्या कितनी है?
उत्तर :- बिहार में राष्ट्रीय उद्यान की संख्या मात्र एक है।

प्रश्न 3:- बिहार में कौन सा स्थान वन्य जीव के लिए प्रसिद्ध है?
उत्तर :- बिहार का कैमूर वन्य जीव अभ्यारण वन्यजीवों के लिए प्रसिद्ध है।

प्रश्न 4:- गौतम बुद्ध पक्षी अभयारण्य कहाँ स्थित है?
उत्तर :- गौतम बुध पक्षी अभ्यारण बिहार के पश्चिम चंपारण में स्थित है। इसकी स्थापना सन् 1971 में की गई थी तथा यह पक्षी अभ्यारण 259 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है।

प्रश्न 5:- पटना में कौन सा राष्ट्रीय उद्यान है?
उत्तर :- बिहार के पटना में कोई राष्ट्रीय उद्यान तू स्थित नहीं है किंतु संजय गाँधी जैविक उद्यान स्थित है।

प्रश्न 6:- बिहार का सबसे बड़ा अभ्यारण कौन सा है?
उत्तर :- बिहार का सबसे बड़ा अभ्यारण कैमूर अभ्यारण है। इस अभ्यारण की स्थापना सन् 1979 में की गई थी तथा इस अभ्यारण का क्षेत्रफल - 1342 वर्ग किमी है।

/----/----/----/

अगर आपको भी इस विषय ( बिहार के राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य Pdf Download - GyAAnigk ) के बारे में कुछ भी जानकारी है तो Comment Box में जरूर बताएं ताकि आपको जो जानकारी है वह सबको प्राप्त हो सके।


आज का सवाल आपके लिए 👇👇 
विक्रमशिला गंगात्मक डॉल्फिन अभ्यारण्य की स्थापना कब हुई थी?
जवाब कॉमेंट बॉक्स में जरूर दें 🙏🙏


Also Check These Labels 👇🏻👇🏻
SSC


Download Pdf File Of बिहार के सभी राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों की सूची - GyAAnigk👇🏻👇🏻



Download pdf file of this post

उम्मीद करता हूं कि आपको यह बिहार के सभी राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्यों की सूची Pdf Download - GyAAnigk  पढ़कर बिहार के सभी राष्ट्रीय उद्यानों पक्षी अभयारण्यों, एवं जीव अभयारण्यों के बारे में जानकारी प्राप्त हो गई होगी।


तो नीचे में दिए गए Green WhatsApp बटन में क्लिक करके अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें Because "SHARING IS CARING🥺 आपकी बड़ी मेहरबानी होगी 🙏🏻🙏🏻। और इस पोस्ट के नीचे एक प्यारा सा कमेंट करके जाएं धन्यवाद।

नोट :- अगर कुछ इसमें त्रुटि है तो जरूर बताएं ताकि हम उसे सुधार सकें धन्यवाद।

----------------------------
🙏🏻 JOIN OUR TELEGRAM CHANNEL 🙏🏻
-----------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें